धान के शीत ब्लाइट रोग की ऐसे कर सकते हैं बहुत आसानी से पहचान

लक्षण

इस रोग में पानी की सतह से थोड़ा ऊपर धान की शाखा पर हलके काले अथबा भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते है। धान के इस खतरनाक रोग को स्टेम रॉट (stem rot) कहते है।

कारण

जब तापमान 25 से 30 डिग्री सेल्सियस एवं नमी 75 -80% के आस-पास हो तो यह रोग तेजी से फैलता है। ये रोग आम तौर पर धान में 50 दिन से पहले दिखाई देता है। जिन खेतों में ज्यादा मात्रा में नाइट्रोज़न का प्रयोग होता है वहां यह रोग दिखाई देता है। मिटटी के अंदर पोटाश की कमी होने से भी यह रोग आपके खेत में आ सकता है।

उपचार

केमिकल तरीके से इसकी रोकथाम के लिए एज़ोक्सीस्ट्रोबिन 11% एवं टेबुकोनाज़ोल 18.3% की 250ml मात्रा प्रति एकड़ इस्तेमाल करें। या फिर टेबुकोनाज़ोल 50% + ट्राइफ्लोक्सीस्ट्रोबिन 25% की 160g मात्रा प्रति एकड़ इस्तेमाल करें।

Leave a Comment