गन्ना बोने की बिभिंन विधियाँ | और गन्ना बोने का सही समय

गन्ने में फुटाव की दवा

गन्ना बोने की बिभिंन विधियाँ सीधी बिजाई: ये उपाय है गन्ने को खेत में सीधा उगाने को कहता है। इसमें रोपण सामग्री, जो कि अक्सर गन्ने के टुकड़े होते है, फरो अथबा रिज में रख दिया जाता है और फिर मिट्टी से कवर कर दिया जाता है।

रोपाई: ये तारिका गन्ने को नर्सरी में कुछ हफ्तों तक उगा कर फिर खेत में रोपाई कर देता है। यंग प्लांट्स फ़िर फील्ड में स्पेस आउट कर दिए जाते हैं और रूट्स सॉइल से कवर कर दिए जाते हैं।

डायरेक्ट ड्रिलिंग: ये तारिका गन्ने को खेत में सीधी तरह से ऐसे ड्रिल के साथ भेज देता है जो फरो खोलता है और गन्ना को उनमें रखता है। ये तारिका श्रम और समय को बचाता है रोपण में।

गन्ना बोने की बिभिंन विधियाँ | और गन्ना बोने का सही समय
गन्ना बोने की बिभिंन विधियाँ | और गन्ना बोने का सही समय

गन्ने की बुवाई करते समय कौन सी खाद डालें।

गन्ने की उर्वरता की आवश्यकता मिट्टी की विशिष्ट स्थिति और फसल की विकास अवस्था पर निर्भर करती है। लेकिन कुछ सामान्य उर्वरक जो गन्ने पर लगाते हैं वो हैं-

नाइट्रोजन (एन): नाइट्रोजन गन्ने की वृद्धि के लिए आवश्यक पोषक तत्व है और आमतौर पर अमोनियम नाइट्रेट या यूरिया फॉर्म में लगाते हैं।
फॉस्फोरस (पी): फॉस्फोरस रूट ग्रोथ के लिए आवश्यक है और आमतौर पर ट्रिपल सुपरफॉस्फेट या मोनो-अमोनियम फॉस्फेट फॉर्म में लगाते हैं।
पोटैशियम (K): पोटैशियम स्ट्रॉन्ग स्टंड्स के लिए जरूरी है और आमतौर पर पोटैशियम क्लोराइड या पोटैशियम सल्फेट फॉर्म में अप्लाई किए जाते हैं।
जिंक (Zn): जिंक गन्ने की ग्रोथ के लिए जरूरी माइक्रोन्यूट्रिएंट है और कॉमनली जिंक सल्फेट या जिंक ऑक्साइड फॉर्म में अप्लाई किए जाते है।
सॉइल टेस्ट सबसे बेस्ट है किस फर्टिलाइजर को और कितने क्वांटिटी में अप्लाई करना है ये तय करने के लिए। उर्वरक का मात्रा फसल की पोषक तत्व ग्रहण, मिट्टी की पोषक स्थिति और अपेक्षित उपज के अनुसार तय करना चाहिए।

गन्ना बोने का सही समय

गन्ने की खाद को बोने का सही समय क्षेत्र और जलवायु के अनुसार बदलता रहता है। लेकिन आम तौर पर, गन्ने की खाद को मानसून के मौसम के शुरू या अंत में खाना चाहिए, जिसकी फसल को पर्याप्त पानी मिल सके और उसे स्थापित करने में मदद मिले। मानसून के मौसम की शुरुआत या अंत में भेजने से, गन्ने की खड्ड को सही तापमान और नमी मिलती है जिसे उगाने में आसनी होती है।

गन्ने की फसल कितने समय में तैयार हो जाती है

गन्ने की परिपक्वता और फसल के लिए तैयार होने में लगने वाले समय वेरायटी और उगाने की स्थिति के अनुसार अलग-अलग करता है। आम तौर पर, गन्ने को बोने के समय से 12 से 18 महिन तक परिपक्वता तक पहुचने में लगता है। क्रॉप आम तौर पर 12-14 माहिन के बाद हार्वेस्ट के लिए तैयार होता है, लेकिन ऑप्टीमल हार्वेस्ट के लिए समय वेरायटी और शुगर कंटेंट के हिसाब से होता है। कुछ वैरायटी 18 माहिन से भी ज्यादा समय तक मैच्योरिटी तक पहचानने में लग सकते हैं। साथ ही, मौसम, मिट्टी की गुणवत्ता, कीट और रोग दबाव जैसे कारक गन्ने की परिपक्वता तक पहुंचने में लगने वाले समय पर भी असर डाल सकते हैं।

Also Read… गन्ना उत्पादन के बारे में 7 बातें जो प्रत्येक किसान को जाननी चाहिए

गन्ने की खेती सबसे ज्यादा कहां पर होती है

गन्ना दुनिया के ट्रॉपिकल और सब-ट्रॉपिकल रीजन में बहुत ज्यादा उगाया जाता है। सबसे ज्यादा गन्ना पैदा करने वाले देश हैं ब्राजील, भारत, चीन, थाईलैंड और पाकिस्तान। ब्राजील दुनिया का सबसे बड़ा गन्ना उत्पादक है, जिस तरह वैश्विक उत्पादन के 25% से भी ज्यादा है। भारत दुनिया के दूसरा सबसे बड़ा गन्ना उत्पादक है, जिसके बाद चीन, थाईलैंड और पाकिस्तान आते हैं। और प्रमुख गन्ना उत्पादन करने वाले देश है ऑस्ट्रेलिया, कोलंबिया, ग्वाटेमाला, मैक्सिको, दक्षिण अफ्रीका और संयुक्त राज्य अमेरिका।

गन्ने की लंबाई बढ़ाने की दवा

किसानों के अनुसर, कोरज़ान गन्ने की खेती के लिए एक बेहतरी किटनाशक है। इसके प्रयोग से न केवल गन्ना फसल अच्छी होती है, बाल्की गन्ना लंबा और मोटा भी पैदा होता है। इस लिए आजकल किसान कोरज़ान का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं अपने गन्ने की फसल के लिए।

गन्ने में फुटाव की दवा

गन्ने के लिए बेहतर विकास के लिए, 1 हेक्टेयर के लिए 150 लीटर पानी में देहात ग्रो प्रो के 100-150 ग्राम को मिला कर फसल को देना चाहिए।

1 thought on “गन्ना बोने की बिभिंन विधियाँ | और गन्ना बोने का सही समय”

Leave a Comment