Brown plant hopper in paddy :धान की फसल में ब्राउन प्लांट हॉपर और भूरा फुदका कीट का नियंत्रण कैसे करें ? –

Brown plant hopper in paddy :किसान साथियों नमस्कार, सितंबर का महीना शुरू हो चुका है और और धान की बालियां निकल रही है। इन्हीं दिनों सितंबर से अक्टूबर तक धान के भूरा माहू (ब्राउन प्लांट हॉपर) का अटैक शुरू हो जाता है। यह पौधे का रस चूस कर आपकी फसल में बहुत ही भारी नुकसान पहुंचा सकते हैं। पौधे अपना भोजन बनाना बंद कर देते हैं और यह सारे पौधे सूख कर समाप्त हो जाते हैं।

ब्राउन प्लांट ऊपर का अटैक धान की रोपाई के 55 से 60 दिन बाद कभी भी हो सकता है।ब्राउन प्लांट ऊपर का अटैक नीचे से जड़ के पास से शुरू होता है। इसके अंडे सफेद रंग के होते हैं। इसके अंडे से निंफ बनते हैं और उसे फिर बाद में एडल्ट बनते हैं। ब्राउन प्लांट ऊपर बहुत जल्दी अपनी संख्या दुगनी कर देते हैं अगर इनकी संख्या ज्यादा हो तो यह पूरा पौधा सुख देते हैं, और खेत में बीच-बीच में सूखे पौधों के पैच बन जाते हैं। ऐसे लगता है जैसे फसल जलकर सूख गई हो यह पूरे खेत में फैल सकता है। इससे आपकी धान की फसल को 100% तक नुकसान कर सकता है।

Brown plant hopper in paddy धान की फसल में ब्राउन प्लांट हॉपर और भूरा फुदका कीट का नियंत्रण कैसे करें ? -
Brown plant hopper in paddy धान की फसल में ब्राउन प्लांट हॉपर और भूरा फुदका कीट का नियंत्रण कैसे करें ? –

ब्राउन प्लांट हॉपर (Brown plant hopper in paddy) किन परिस्थिति में ज्यादा फैलता है।

धान में ब्राउन प्लांट हॉपर गीले मौसम में अधिक अटैक करता है। लगातार पानी खड़ा हो, पौधे के नीचे तक धूप न पहुंचती हो, नमी खेत में अधिक हो,धान के पौधे बेहद अधिक नजदीक लगे हुए हो, धान में हवा ना क्रॉस होती हो, नाइट्रोजन का इस्तेमाल किया गया हो अथबा अगर हमने कीटनाशक का इस्तेमाल कुछ जल्दी कर दिया हो तब तेले या माहू का अटैक अधिक होता है।

ब्राउन प्लांट हॉपर (BPH) की रोकथाम

जब भी हमें खेत में ब्राउन प्लांट का निम्फ अथबा एडल्ट दिखाई दे तो इस समय खेत से पानी को निकाल देना चाहिए और खेत को बेहद अच्छी तरह से चेक करें। ब्राउन प्लांट ऊपर की रोकथाम के लिए हम कांटेक्ट या सिस्टमैटिक दोनों प्रकार के कीटनाशकों का प्रयोग कर सकते हैं। कांटेक्ट कीटनाशक का प्रयोग करते समय हमें पानी नीचे जड़ों तक पहुंचाना होता है और बड़ी फसल में जड़ों तक पानी पहुंचना आसान नहीं होता है। इसलिए हमें सिस्टमैटिक कीटनाशकों का ही प्रयोग करना चाहिए। क्योंकि इसका अटैक जड़ों के पास होता है।

ब्राउन प्लांट हॉपर के लिए इस्तेमाल होने वाले कीटनाशक

वैसे तो मार्केट में आपको विभिन्न तरह के कीटनाशक देखने को मिल जाते हैं। जो ब्राउन प्लांट हॉपर को कंट्रोल करते हैं। लेकिन मैं आपको 4 से 5 कीटनाशकों के बारे में बताऊंगा जिनका प्रयोग करके आप इनको आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं। आपका प्रति एकड़ खर्च ₹100 से लेकर ₹800 तक हो सकता है।

ब्राउन प्लांट हॉपर (BHP) की रोकथाम के लिए इमिडाक्लोप्रिड 100ml प्रति एकड़ प्रयोग कर सकते हैं। इसका प्रति एकड़ खर्च 100 से 150 रुपए तक आएगा।
ब्राउन प्लांट हॉपर (BHP) की रोकथाम के लिए हम थियामेथोक्सम(एक्टारा) सिंजेन्टा 100 ग्राम प्रति एकड़ प्रयोग भी कर सकते हैं। इसका प्रति एकड़ खर्च लगभग 100 रुपए आएगा।
ट्राइफ्लुमेज़ोपाइरिन (पेक्सालोन) Dupont ब्राउन प्लांट हॉपर (BHP) के लिए सबसे अच्छा कीटनाशक है। जिसका लंबे समय तक कीटों पर नियंत्रण रहता है। इसका प्रति एकड़ 100ml प्रयोग किया जाता है। इसका प्रति एकड़ खर्च 750 से 800 रुपए तक आएगा।
ब्राउन प्लांट हॉपर (BHP) की रोकथाम के लिए डिनोटफ्यूरन (ओशीन) PI 100g मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग करें। इसका प्रति एकड़ खर्च 350 से 400 रुपए तक आएगा।
ब्राउन प्लांट हॉपर (BHP) की रोकथाम पाइमेट्रोज़िन (चैस) Syngenta की 120g मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग कर सकते है। इसका प्रति एकड़ खर्च 400 से 450 रुपए तक आएगा।
इन कीटनाशकों का प्रयोग करके आप ब्राउन प्लांट हॉपर (BHP) को आसानी से कण्ट्रोल कर सकते है। लेकिन अगर आपके खेत में इसका अटैक अधिक मात्रा में है तो आप 2 कीटनाशकों आपस में मिला कर प्रयोग कर सकते है। आप पेक्सालोन के साथ ओशीन या चैस को मिलाकर प्रयोग करें।

Leave a Comment