धान फसल में ब्राउन प्लांट हॉपर कीट के नियंत्रण के लिए

धान फसल में ब्राउन प्लांट हॉपर कीट के नियंत्रण के लिए

धान फसल में ब्राउन प्लांट हॉपर की समस्या

धान की फसल में सितंबर से अक्टूबर के महीनों में ब्राउन प्लांट हॉपर या भूरे फुदके की गंभीर समस्या उत्पन्न होने लगती है। यह कीट धान के पौधे का रस चूसकर फसल को नुकसान पहुंचाता है। ब्राउन प्लांट हॉपर के कारण पौधे सूखने लगते हैं और पूरी फसल खराब हो सकती है।

7 धान में ब्राउन प्लांट हॉपर क्या है और इसकी पहचान कैसे करें

कीट की पहचान और फैलने की स्थितियां

ब्राउन प्लांट हॉपर के अंडे सफेद रंग के होते हैं और इनसे निंफ निकलते हैं। गीले मौसम, खड़े पानी और घनी फसल में यह तेजी से फैलता है।

फसल को होने वाले नुकसान

ब्राउन प्लांट हॉपर से पौधे सूखने लगते हैं और फसल में धब्बे पड़ने लगते हैं। यह पूरी फसल को नष्ट कर सकता है और किसानों को हानि पहुंचाता है।

नियंत्रण के उपाय

इसके लिए सिस्टेमिक कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकता है। इमिडाक्लोप्रिड, थायामेथोक्सम, पेक्सालोन, डाइनोटेफ़्यूरान और पाइमेट्रोज़िन जैसे कीटनाशक प्रभावी रहे हैं। सही समय पर इनका छिटपुट उपयोग करके ब्राउन प्लांट हॉपर पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

किसान इन नियंत्रण उपायों को अपनाकर ब्राउन प्लांट हॉपर के कारण होने वाले नुकसान से अपनी फसल की रक्षा कर सकते हैं।

Leave a Comment